मासूम का अपहरण चाचा ने किया 12 घंटे के अंदर आरोपी पुलिस के शिंकजे मे :

post


00 पुलिस ने फिर दिखाई अपनी तत्परता व सजगता
जांजगीर। राज्य में इन
दिनों जहां अपराधिक घटनाएं बढ़ती जा रही है वहीं दूसरी ओर पुलिस इस पर
अंकुश लगाने में अपनी ओर से कोई कसर नहीं बाकी रख रही है। घटना की रिपोर्ट
के बाद पुलिस ने अपने अंदाज में आरोपियों के गिरेबान तक पहुंचने में अब तक
सफल रही है। बुधवार की सुबह मासूम का अपहरण हो गया और रात में पुलिस ने
उनके मोबाईल लोकेशन के आधार पर उन्हें धर दबोचा और सलाखों के पीछे पहुंचा
दिया।



प्राप्त जानकारी के अनुसार मस्तुरी के देवगांव में बलौदा के
ठडग़ाबहरा निवासी राजेंद्र कुमार कुर्रे के 6 साल के बेटे अनुज के अपहरण
मामले का पुलिस ने पटाक्षेप करते हुए मास्टर माइंड उसके चाचा राजा कुर्रे
तथा अपहरण में उसके साथ सहभागी बने मित्र अंकित खांडेकर व एक युवती को
गिरफ्तार कर अनुज को सकुशल छुड़ाकर उसकेे पिता को सौंप दिया। जांजगीर से 6
साल के बच्चे अनुज को अगवा करने का मास्टर माइंड उसी का चाचा राजा कुर्रे
निकला। उसने पांच लाख की फिरौती की लालच में अपने एक साथी अंकित खांडेकर से
बच्चे का अपहरण कराया था। पुलिस ने इस मामले में गुरुवार तड़के राजा को
गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने देर रात बिलासपुर से बच्चे को बरामद कर आरोपी
अंकित खांडेकर को गिरफ्तार किया था। जांजगीर में बलौदा के ठडग़ाबहरा निवासी
राजेंद्र कुमार कुर्रे का घर और दुकान साथ है। उनका 6 साल का बेटा अनुज
बुधवार सुबह 9.30 बजे दोस्त अभिषेक के साथ घर के बाहर चबूतरे पर खेल रहा
था। वहीं अनुज की मां भी बैठी थी। इसी बीच वह किसी काम के लिए अंदर चली
गईं। तभी नकाबपोश एक बाइक सवार पहुंचा और अनुज को पापा कोल्डड्रिंक पीने के
लिए बुला रहे हैं का झांसा देकर अपने साथ ले गया।
पुलिस कप्तान पारूल
माथुर ने बताया कि जिस समय अनुज के पिता थाने में रिपोर्ट दर्ज कराने शाम
करीब 4 बजे थाने पहुंचे थे उसी दौरान  अपहरणकर्ताओं को फोन अनुज के पिता
राजेंद्र के पास आया और 5 लाख रुपए फिरौती मांगी गई। दूसरे दिन फिर फोन
करने की बात कही और जांजगीर बुलाया। पुलिस ने तत्काल मोबाईल  कॉल ट्रेस
किया तो लोकेशन मुलमुला-मस्तुरी के बीच मिला। इसे देखते हुए जांजगीर पुलिस
कप्तान ने बिलासपुर में मस्तूरी थाना पुलिस को अलर्ट किया  बिलासपुर में
मस्तूरी थाना पुलिस और जांजगीर पुलिस टीम ने देर रात देवगांव के अंकित
खांडेकर को गिरफ्तार कर अनुज को उसके पास से बरामद कर लिया।



पुलिस
गिरफ्त में आने के बाद सख्ती से पूछताछ के बाद अंकित ने बताया कि अनुज
कुर्रे के अपहरण का मास्टरमाईंड उसका चाचा राजा कुर्रे है। उसने ही बच्चे
अनुज का अपहरण कर गांव से बाहर खेत में बने एक मकान में छिपाकर रखने को कहा
था। वहां से अनुज को बरामद कर लिया। अनुज के अपहरण के मामले में एक युवती
की भूमिका भी संदिग्ध है जिसे पुलिस ने अपनी हिरासत में लिया है। फिरौती के
लिए फोन करने वाली की कॉल डिटेल से इस युवती का नाम सामने आया है। फिरौती
की मांग करने वाले से युवती की इस दौरान 20 से 25 बार बातचीत हुई थी। पुलिस
ने युवती को पाराघाट से पकड़ा।